Author: Sanjivv Ssharma

कर्म-व्यवहार की अनिश्चितता का सिद्धांत और प्रगति एवं विकासशीलता

कर्म-व्यवहार की अनिश्चितता का सिद्धांत और प्रगति एवं विकासशीलता

यह परम विधाता की असीम कृपा ही मानी जानी चाहिए की उसने मानव जीवन में कर्म व व्यवहार की अनिश्चितता प्रदान कर उसे जानवरों से पृथक दर्जा दिया| कर्म और व्यवहार की अनिश्चितता के इसी सिद्धांत से प्राप्त प्रगतिशील विचारशीलता ने इन्सान […]

स्पोकन इंग्लिश स्वयं सीखें – कुछ आसान अभ्यास….

स्पोकन इंग्लिश स्वयं सीखें – कुछ आसान अभ्यास….

छवि राजावत, सरपंच (ग्राम सोडा, जिला टोंक, राजस्थान) की आप सभी को यह सलाह है कि “भाषा को इतना महत्त्व देने कि आवश्यकता नहीं| यह तो सिर्फ एक संचार का माध्यम है| असल खजाना तो एक व्यक्ति का मन, ह्रदय और आत्मा […]