एजाइल किड्स फीडबैक 4: इनोवेटिव “एजाइल किड्स” टास्क बोर्ड….

Hindiएजाइल किड्स – मेरा बॉस कौन है? बुक के एक पाठक ने एक बहुत ही इनोवेटिव टास्क बोर्ड बनाया है जिसे वे एक नोट बुक में लिखकर अपनी टास्क्स का प्रबंधन करने के लिए दैनिक रूप से उपयोग करते हैं|

“एजाइल किड्स” बुक के इस पाठक के पास पर्याप्त आर्थिक साधनों का अभाव है और साथ ही कुछ अन्य बाधाएं भी हैं जैसे सीमित समय के लिए बिजली व इन्टरनेट की उपलब्धता जिसमें वह अपने आईटी सेंटर को चलाने का प्रयास करता है| इन बाधाओं के साथ यह एक सरल व्यक्तित्व वाला पाठक अपने आईटी सेंटर में इस “एजाइल किड्स” बुक को केवल तभी पढ़ पाता था जब उसके सेंटर में कोई ग्राहक नहीं होता था| वह लगभग 25-30 दिनों इस बुक को पढ़ पाया| उसने “एजाइल किड्स” की इस बुक को पढ़ने के साथ ही साथ इस बुक में बताये अनुसार एजाइल कॉन्सेप्ट का इम्प्लीमेंटेशन भी शुरू कर दिया था|

क्योंकि यह पाठक इस स्थिति में नहीं था कि वह कंप्यूटर या मोबाइल पर या स्टिकी नोट्स के साथ घर/ऑफिस में एक व्यवस्थित टास्क बोर्ड बना सके, अत:, उसने एक नोट बुक में ही हाथ से एक टास्क बोर्ड बना लिया (इसका चित्र निचे दिया गया है)| वह इस नोट बुक को अपने साथ ही ले जाया करता है और जब आवश्यकता होती है उसमें टास्क्स को अपडेट कर लेता है|

इस पाठक में निम्न फीडबैक दिया कि “एजाइल किड्स” से कैसे उसका जीवन परिवर्तित हो गया:

  1. English“एजाइल किड्स” पढ़ने के बाद उसने दूसरों के नज़रिए (पॉइंट ऑफ़ व्यू) से स्वयं अपने आप को देखना और उनकी दृष्टी से स्वयं को समझना बंद कर दिया|
  2. इस परिवर्तित माइंड-सेट ने उस पाठक को स्वयं अपने नज़रिए (पॉइंट ऑफ़ व्यू) से अपने आप को देखने व समझने में समर्थ बनाया और तब से उसका आत्मविश्वास बढ़ने लगा|
  3. मेरे निम्न ब्लॉग-पोस्ट्स ने भी उसके माइंड-सेट को परिवर्तित करने और स्वयं के अस्तित्व का सम्मान करने में सहायता की:
  4. “एजाइल किड्स” और “6C कॉन्सेप्ट” संयुक्त रूप से उसे अपनी व अपने परिवार की क्षमताओं (केपबिलिटीज़) को विकसित करने की दिशा में कार्य करने में सक्षम बनाकर उसे उसकी बाधाओं और सिमित साधनों के वातावरण से उबरने व उससे ऊपर उठने में उसकी सहायता कर रहे हैं|

निचे दिया गया चित्र उस पाठक द्वारा बनाए गए और दैनिक रूप से उपयोग किये जा रहे टास्क बोर्ड के आधार पर मेरे द्वारा बनाया गया एक डमी टास्क बोर्ड है:

Agile Kids Task Board